महात्मा गांधी और उनके द्वारा किए गए अनशनों का तारीखवार ब्यौरा

दक्षिण अफ्रीका में किये गये अनशन
1913: आश्रम (फीनिक्स) के दो आश्रमवासियों के नैतिक पतन के कारण एक सप्ताह का पश्चाताप अनशन
1914: ऐसे ही कारण से चौदह दिन का अनशन

हिन्दुस्तान में किये गये अनशन

1 जून 1915: आश्रम के लड़कों द्वारा असत्य व्यवहार का पता चलने पर अनशन, भूल मान लेने पर अनशन समाप्त
11 सितम्बर 1915: आश्रम के कुछ व्यक्तियों द्वारा एक हरिजन के प्रवेश पर आपत्ति करने के कारण एक दिन का अनशन
15-17 मार्च 1918: अहमदाबाद के मिल मजदूरों के वेतन में वृद्वि करने के लिए अनशन
6 अप्रैल 1919: हिन्दुस्तान भर में सत्याग्रह दिवस के अवसर पर एक दिन का अनशन
13-15 अप्रैल 1919: जलियांवाला बाग हत्याकांड तथा बम्बई और अहमदाबाद की अशान्त घटनाओं के लिए 72 घंटे का अनशन
19-21 नवम्बर 1921: बम्बई की अशान्त घटनाओं के लिए व्रत लिया
28 नवम्बर 1921: हर सोमवार को, जब तक स्वतंत्रता प्राप्त नहीं होती 24 घंटे का अनशन रखने का व्रत लिया
12-16 फरवरी 1924: चौरी-चौरा नर संहार
17-30 सितम्बर और 1-7 अक्तूबर 1924: हिन्दू-मुस्लिम एकता के लिए
24-30 जून 1925: आश्रमवासियों के नैतिक पतन के कारण
22-24 जून 1928: एक आश्रमवासी के अनैतिक व्यवहार के कारण
20-25 सितम्बर 1932: हरिजनों के लिए अलग साम्प्रदायिक निर्वाचन व्यवस्था के कारण
22 दिसम्बर 1932: सरकार द्वारा एक कैदी के शौचालय की सफाई करने पर प्रतिबंध लगाने के फलस्वरुप विरोध प्रकट करने के लिए
8-28 मई 1933: आत्मशुद्वि के लिए
16-अगस्त 1933: हरिजन कल्याण के कार्य पर प्रतिबंध लगाने के कारण विरोध प्रकट करने हेतु
7-13 अगस्त 1934: जब एक समाज सुधारक ने अपने विरोधी पर लाठी से प्रहार किया। यह विरोधी हरिजन उत्थान को पसंद नहीं करता था
3-6 मार्च 1939: राजकोट के महाराज द्वारा वादा खिलाफी करने पर
12-13 नवम्बर 1940: आश्रम में छोटी सी चोरी के कारण दो दिन का व्रत
5-7 मई 1941: अहमदाबाद में साम्प्रदायिक दंगे होने के कारण
29 जून 1941: साम्प्रदायिक एकता के लिए
10 फरवरी से 2 मार्च 1943: सरकार के इस प्रचार पर कि 1942 के हिन्द छोड़ों आंदोलन के कारण जो हिंसा हुई उसके लिए कांग्रेस जिम्मेदार है
30 नवम्बर 1944: एक या अधिक दिनों तक व्रत करने की इच्छा, ऐसी इच्छा का कारण ज्ञात नहीं हो सका
20-23 अक्तूबर 1946: संभवत: किसी व्यक्ति के द्वारा उस पत्र में गलती से लिखा गया जिस पत्र का सम्बन्ध मुस्लिम लीग से वार्ता के संदर्भ में था
15 अगस्त 1947: हिन्दुस्तान के बंटवारे के विरोध में
1-3 सितम्बर 1947: साम्प्रदायिक एकता के लिए
11 अक्तूबर 1947: विक्रम संवत् के अनुसार जन्म दिन। उस दिन व्रत रखा
13-17 जनवरी 1948: साम्प्रदायिक एकता के लिये व्रत रखा

Leave a Reply

Top